Shubhankan Pandey

Shubhankan Pandey, an Agriculture Engineer from GB Pant University of Agriculture and Technology, started his career as a Development Apprentice in PRADAN in October 2020. He is currently based in Palkot team in the Chhota Nagpur region of Jharkhand. He is mainly engaged in education, agriculture and allied livelihood activities with the community and women collectives. He's deeply interested in a wide range of literature and in writing.
November 11, 2021

पहली सैलरी

ज्यों ही मैंने अपने बायें हाथ में थामे हुए झोले का सफेद फीता कसते हुए निगाहें दरी से ऊपर की ओर उठाई, तब प्रदान दफ़्तर की घड़ी 5 बजकर 25 मिनट बजा रही थी। मेरी अपनी कलाई घड़ी में 5 बज रहे थे। शायद ‘विलेज स्टे’ का नाम सुनकर वह भी मेरी तरह सुस्त पड़ गई थी। मेरे ऑफिस के ‘कलीग’ मुझे ऊपर चौक तक गीता दीदी के साथ छोड़ आए। इससे आगे का रास्ता मुझे गीता दीदी के साथ ऑटो रिक्शा से तय करना था। पथरीले रास्ते पर खट–खट की आवाज़ करता रिक्शा जब कुछ समय के लिए थमा तो गीता दीदी मुझसे पूछी, “दादा आपके घर पर कितने लोग हैं? माँ–बाप जिन्दा हैं या मर गए?” पहली ही मुलाकात में इस तरह का सवाल मेरे लिए थोड़ा अजीब था।
September 7, 2021

Learning by Doing: Myriad Mirrors
Reflections on a Development Apprentice’s Journey

Changing one’s mind is not a weakness. In fact, it is a strength because one leaves behind one’s old beliefs and seeks the truth